अतिक्रमण की शिकायत, निगम हुआ अलर्ट : रिसाली क्षेत्र के ईडब्ल्यूएस जमीन तलाश रहे अधिकारी

by sadmin
Spread the love

-आरक्षित जमीन की अवैध प्लाटिंग पर होगी एफआईआर
दक्षिणापथ, रिसाली।
कालोनाइजर द्वारा ईडब्ल्यूएस के लिए छोड़े जमीन पर अतिक्रमण किए जाने की शिकायत पर रिसाली निगम के अधिकारी अलर्ट मोड में है। आयुक्त प्रकाश कुमार सर्वे ने मामले को गंभीरता से लेते हुए जांच के आदेश दिए है। उन्होंने समीक्षा बैठक में कहा कि आरक्षित जमीन को अतिक्रमण से बचाने पहली प्राथमिकता होनी चाहिए।
आयुक्त प्रकाश कुमार सर्वे ने भवन अधिकारी को स्पष्ट निर्देश दिए है कि रिसाली नगर पालिक निगम क्षेत्र के कालोनाइजरों की फाइल अच्छे से खंगाले। साथ ही इस बात की सूक्ष्मता से जांच करे कि कालोनाइजर ने ईडब्ल्यूएस के लिए जमीन छोड़ा है कि नहीं। अगर जमीन है तो वह अक्रिमण की चपेट या फिर अवैध प्लाटिंग का हिस्सा तो नहीं बना है। ऐसे प्रकरणों पर आयुक्त ने संबंधित सब इंजीनियर को सीधे एफ आई आर कराने के निर्देश दिए है। समीक्षा बैठक में नोडल अधिकारी रमाकांत साहू, कार्यपालन अभियंता सुशील बाबर, सहायक अभियंता बीके सिंह, राजकुमार जैन, उपअभियंता हिमांशु कावड़े, अखिलेश गुप्ता, उमयंती ठाकुर, डिगेश्वरी चंद्राकर, नितीन अमन साहू, गोपाल सिन्हा, प्रभारी स्वास्थ्य निरीक्षक बृजेन्द्र परिहार आदि उपस्थित थे।
खाली जमीन पर फैसिंग
रिसाली निगम क्षेत्र में आरक्षित जमीन को सुरक्षित रखने फैसिंग किया जाएगा। आयुक्त ने निर्देश दिए है कि खाली जमीन को पहले तलाश करे। आवश्यकता पडऩे पर पटवारी व राजस्व निरीक्षक की मदद ले। इसके बाद आरक्षित जमीन को कटीले तार से घेर उस पर निगम का बोर्ड लगाए।
चलेगा मास्क अभियान
आयुक्त ने स्पष्ट निर्देश दिए कि बाजार क्षेत्र में कोविड नियमों का पालन नहीं हो रहा है। रात 8 बजे के बाद भी दुकाने संचालित की जा रही है। साथ ही आम नागरिक मास्क का भी उपयोग नहीं कर रहे है। उन्होंने निगम अधिकारियों से मास्क नहीं पहनने वालों से 500-500 का जुर्माना वसूल करने के निर्देश दिए है।
मुख्य मार्ग नान वेडिंग जोन
समीक्षा बैठक में आयुक्त ने कहा कि नगर पालिक निगम रिसाली जल्द ही मुख्य मार्गों को नान वेडिंग जोन घोषित करेगा। इन मार्गों में कृष्णा टाकिज रोड भी शामिल है। अधिकारी इस बात पर विशेष ध्यान दे कि कोई भी व्यापारी सड़क किनारे पसरा लगाकर सामान न बेचे।

Related Articles