खनिज विभाग के जिम्मेदारों की नाकामी पर बिफरे सैकड़ो ग्रामीण

by sadmin
Spread the love

अवैध मुरम खनन कर रहे गाड़ियों को दबोचा, अधिकारी के पहुँचते ही मचाया हंगामा
दक्षिणापथ,सिकोसा।
बालोद जिले में लगातार अवैध मुरम खनन के मामले सामने आ रहे हैं जो खनिज विभाग के जिम्मेदारों की निष्क्रियता को दर्शाता है। खनिज विभाग द्वारा कारवाही नहीं करने से माफियाओ को पनाह मिलता जा रहा है।
मामला तब बढ़ गया जब रविवार को ग्रामीणों द्वारा पकड़े गाड़ियों पर कार्यवाही करने खनिज विभाग के इंस्पेक्टर मौके पर पहुंचे। दरअसल गुंडरदेही ब्लॉक मुख्यालय से 9 किलोमीटर दूर ग्राम पंचायत सनोद के आश्रित ग्राम नवागांव में लगातार एक सप्ताह से रातभर अवैध रूप से मुरूम का खनन किया जा रहा था। ग्रामीण लगातार इस अवैध खनन की जानकारी खनिज विभाग के अफसरों को देते रहे लेकिन उनके कान में जूं तक नहीं रेंगा। जिसके बाद शनिवार देर रात ग्रामीणों ने कड़ा रुख अपनाते हुए अवैध खनन कर रहे 3 हाइवा व 1 चैन माउंटेन मशीन को जब्त कर लिया।
रविवार सुबह विभाग को दी जानकारी
पूरी रात जागकर कई ग्रामीणों ने गाड़ियों की रखवाली की ताकि गाड़ी लेकर कोई फरार न हो जाए। रविवार सुबह ग्रामीणों ने एक बार फिर खनिज विभाग के जिम्मेदारों को जानकारी दी। लेकिन इस बार अफसर की मज़बूरी थी क्योंकि ग्रामीणों ने पहले ही माफियाओं की गाड़ियां पकड़ रखी थी। इसीलिए खनिज इंस्पेक्टर शशांक सोनी मौके पर पहुंचे। इसके साथ ही माहौल शांत कराने के लिए गुंडरदेही थाना प्रभारी रोहित मालेकर सहित अन्य सिपाही भी मौके पर पहुंचे।

सड़क ठेकेदार द्वारा की जा रही थी खुदाई
मिली जानकारी के अनुसार श्री राम इन्फोटेक कंपनी द्वारा गुंडरदेही ब्लॉक में सड़क निर्माण का कार्य किया जा रहा है। जिसमे मुरम की आवश्यक है। ग्रामीणों ने बताया कि ठेकेदार ने पहले पंचायत में मुरम की अनुमति हेतु चर्चा की थी जिसके लिए प्रस्ताव भी पंचायत ने बनाया था लेकिन बरसात आ जाने के कारण खनिज विभाग से अनुमति नहीं लिया गया।
तीन दिन पूर्व भी आया था अवैध खनन का मामला
बता दें कि तीन दिन पूर्व में अमर बिल्डर कम्पनी द्वारा पिरकीपार गांव में अवैध मुरम खनन किया जा रहा था। जहां आधा दर्जन हाइवा व एक चैन माउंटेन के जरिये मुरम की खुदाई की जा रही थी। जिसकी जानकारी खनिज विभाग के जिला अधिकारी प्रवीण चन्द्राकर व इंस्पेक्टर शशांक सोनी को दी गई लेकिन 3 घण्टे बाद कार्यवाही करने मौके पर पहुंचे थे जिससे केवल एक हाइवा व चैन माउंटेन पर ही कार्यवाही हो पाई थी।
सवालों से बचने लगे अफसर
पूरे मामले पर जानकारी लेने जिला खनिज अधिकारी प्रवीण चन्द्राकर व इंस्पेक्टर शशांक सोनी से सम्पर्क किया गया लेकिन उन्होंने फोन नहीं उठाया।

Related Articles