Spread the love

दक्षिणापथ, दुर्ग। उच्च न्यायालय छत्तीसगढ़ बिलासपुर के द्वारा जिला न्यायालय की कार्यप्रणाली को नियमित य अस्थायी रखने के संदर्भ में 22 जून पत्र प्रेषित कर प्रदेश के सभी अधिवक्ता संघो से अभिमत मांगा गया है जिस संबंध में जिला अधिवक्ता संघ की ओर से अध्यक्ष गुलाब सिंह पटेल ने 24 जून को जिला अधिवक्ता संघ की ओर अपना अभिमत देते हुए पर्याप्त सुरक्षा व्यवस्था के साथ न्यायालय के कार्य को सुचारू रूप से नियमित रखने की वकालत की है उच्च न्यायालय को प्रेषित अपने अभिमत में अध्यक्ष श्री पटेल ने लिखा है कि द्वितीय चरण की इस महामारी में सम्पूर्ण भारत ने बहुत कुछ खोया हैं वही जिला अधिवक्ता संघ ने भी इस महामारी में पर्याप्त सुरक्षा उपकरणों के अभाव में अपने 28 अधिवक्ता साथियों को खोया है जिसकी भरपाई सम्भव नही है वही भविष्य में तृतीय चरण का डेल्टा वरियंट खतरनाक बताया जा रहा है ऐसी परिस्थिति में न्यायालयीन परिवार सहित पक्ष कार व नागरिक की सुरक्षा आवश्यक है साथ ही 23 मार्च 2020 से कुछ समय को छोड़कर न्यायलयीन कार्य प्रणाली निरन्तर अवरुद्ध चल रही है जिससे प्रकरणों की पेंडेंसी लगातार बढ़ रही है पक्षकारो व विचाराधीन बंदियों की आस्था व अपेक्षा ए न्यायालय पर व पैरवीकार अधिवक्ता से बनी हुई है जहाँ इस विषम परिस्थितियों में, मैच में हमे खेलना भी है, रन भी बनाना है व अपनी टीम के विकेट भी बचाना है ऐसी परिस्थिति में अधिवक्ता संघ दुर्ग पूर्ण सुरक्षा के साथ न्यायालय को नियमित खोले जाने के लिए सुझाव देता है न्यायालय भवन की नियमित रूप से सेनेटाइज व सम्पूर्ण कोविड नियमो का कड़ाई से पालन करने के दिशा निर्देश के साथ नियमित रूप से प्रारंभ किया जाए।

Related Articles