कांसाबेल टाँगरगांव स्टील प्लांट विवाद को लेकर जशपुर के छोटे सरकार युद्धवीर सिंह जूदेव का आया बड़ा बयान..कहा पूरा जशपुर हमारा है यहां किसी को चौधरीगिरी करने का अधिकार नही..वे स्वयं प्रदर्शन करेंगे और प्लांट नही लगने देंगे

by sadmin
Spread the love


दक्षिणापथ, पत्थलगांव।रविवार को कांसाबेल के टाँगर गाँव मे प्लांट के विरोध और समर्थन को लेकर हुए हो हल्ला ,धक्का मुक्की और हंगामे के बाद जशपुर के छोटे सरकार पूर्व विधायक युद्धवीर सिंह जूदेव का बड़ा बयान आया है।
युद्धवीर ने एक ऑडियो मैसेज जारी कर कहा है कि पूरा जशपुर पत्थल गाँव से लेकर सन्ना तक मे वह समाहित हैं ।इन क्षेत्रों में उनके पिता स्व दिलीप सिंह जूदेव के संघर्षों का रक्त दौड़ रहा है इसलिए जशपुर में किसी को चौधरीगिरी करने और पंचायत करने का अधिकार नही है ।
उन्होंने कहा कि टाँगर गाँव को उनके दादा जी ने एक पटेल जी को दिया था लेकिन उन्होंने एक उद्योगपति से पूरे गाँव का सौदा कर लिया यह गलत है वह स्वयं विरोध करेंगे ,प्रदर्शन करेंगे लेकिन रविवार को जो लोग प्लांट का विरोध करने गए थे वह 15 वर्षो तक सरकार में थे ,सरकार में मंत्री भी थे तब उनके उद्योगपतियों से सम्बंध अच्छे थे और अब सम्बंध खराब हो गए हैं तो चंदा वसूली के लिए विरोध करने पहुँच गए ।
युद्दवीर ने बगैर किसी का नाम लिए कहा —-“जो विरोध हुआ वह उचित नही था,विरोध करने वाले भी उचित नही है,विरोध करने वाले जो थे वो 15 साल लगातार सरकार में शासन किये और एक गांव की महिला को कुर्सी में बैठने नही दिए लेकिन जो प्लांट लग रहा है वो भी उचित नही है उसके खिलाफ मैं प्रदर्शन करूँगा क्यों कि कोई प्लांट जशपुर में लगे कांसाबेल में लगे तो ठीक है लेकिन यहां गाड़ियों से लोग कुचले-दबे जाएंगे मुआवजा का कोई ठिकाना नही है और जिस गांव (टाँगरगांव) में प्लांट लग रहा है वो गांव हमारे दादा जी ने एक पटेल जी को दिया था और पटेल जी ने पूरा सौदा कंपनी वालो से कर लिया जो कि प्रदूषण के खिलाफ है इसीलिए मैं विरोध भी करूँगा और प्लांट लगने भी नही लगने दूंगा बस विरोध का तरीका सही होना चाहिए उनको ये नही लगना चाहिए कि ये विकास की चाहत नही रखते है क्यों
कि जिनके द्वारा विरोध किया जा रहा था वो लगातार जब मंत्री थे तब अच्छे संबंध थे और आज जब संबंध अच्छे नही है तो चंदा वसूली के लिए विरोध किया जा रहा है जो उचित नहीं है।
उन्होंने आगे कहा—” जशपुर की पूरी जमीन उनकी है ।पत्थल गाँव से लेकर सन्ना में वह समाहित हैं। इन क्षेत्रों में मेरे पिता स्व दिलीप सिंह जूदेव के द्वारा किये गए संघर्षों का रक्त दौड़ रहा है इसलिए वहां किसी और को चौधरीगिरी और पंचायत करने की जरूरत नहीं है ।
आपको बता दें कि आगामी 4 अगस्त को कुदरगढ़ी स्टील प्लांट की जनसुनवाई होनी है ।जनसुनवाई से पहले ही स्टील प्लांट का विरोध शुरू हो गया है ।इसी क्रम में रविवार को प्रदेश के पूर्व मंत्री गणेश राम भगत टाँगरगाव पहुँच गए और प्लांट के विरोध में रैली सभा शुरू हो गयी तभी आसपास के कुछ लोग आ गए और उन्होंने गणेश राम भगत का विरोध शुरू करना शुरू कर दिया बल्कि उनके खिलाफ नारे लगाने भी शुरू कर दिए।नारेबाजी के बाद बात धक्का मुक्की और मार पीट तक पहुँच गयी ।काफी देर तक यहाँ हंगामा होता रहा ।हंगामे के बाद गणेशराम भगत सभा स्थल से वापस लौट गए।

Related Articles