डोर टू डोर वेक्सीन केंद्र सरकार का सराहनीय कदम- जितेंद वर्मा

by sadmin
Spread the love

पाटन। भाजपा विधायक दल के स्थाई सचिव जितेंद वर्मा ने केंद्र सरकार की उस फैसले को सराहनीय बताया जिसमे अब डोर टू डोर वेक्सीन लगाया जाएगा। वर्मा ने कहा कि कोविड 19 टीकाकरण अभियान को लेकर भारत सरकार ने बड़ा फैसला किया है। देश में डोर-टू-डोर कोविड 19 वैक्सीन लगेगी। लोगों को घर-घर जाकर वैक्सीन लगाई जाएगी। नीति आयोग के सदस्य डॉ. वीके पॉल ने कहा कि भारत में डोर टू डोर कोविड टीकाकरण की अनुमति दी गई है। इसके लिए दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं। उन्होंने बताया कि हम उन लोगों के लिए घर पर टीकाकरण शुरू कर रहे हैं जो टीकाकरण केंद्रों में जाने में सक्षम नहीं हैं। एडवाइजरी जारी की गई है। एसओपी का पालन किया जाएगा। वर्मा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को साधुवाद देते हुए कहा कि मुझे यह बताते हुए खुशी हो रही है कि कोविड एसओपी के अनुरूप अशक्त और चल-फिर नहीं सकने वाले लोगों के लिए ‘घर पर टीकाकरण’ की व्यवस्था करने के लिए एक एडवाइजरी जारी की गई है। लगभग 2/3 वयस्क आबादी को एक टीका लगाया गया है। 18+ आयु वर्ग के 66% लोगों ने कम से कम एक खुराक प्राप्त की, लगभग एक चौथाई वयस्क आबादी ने दोनों खुराक प्राप्त की, यह एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर है। वर्मा ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सारी योजनाए देशहित में है। उन्होंने कहा कि केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने बताया कि 66% 18+ आबादी को कोविड टीकों की कम से कम एक खुराक मिल गई है; 23% 18+ आबादी ने दोनों खुराक प्राप्त की हैं। कुछ राज्यों के जबरदस्त काम के कारण हम यह हासिल कर पाए हैं। छह राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों ने अपनी 100% आबादी को पहली खुराक दे दी है। ये लक्षद्वीप, चंडीगढ़, गोवा, हिमाचल प्रदेश, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह और सिक्किम हैं। चार राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों में पहली खुराक का 90% से अधिक कवरेज है- ये दादरा और नगर हवेली, केरल, लद्दाख और उत्तराखंड हैं।

Related Articles

Leave a Comment