अन्य पिछड़ा वर्ग और आर्थिक रुप से कमजोर सवर्ण की होगी गणना

by sadmin
Spread the love

दुर्ग। जिला पंचायत के सभाकक्ष में क्वांटिफायबल डाटा आयोग के बैठक का आयोजन किया गया। जिसमें आयोग के अध्यक्ष छबि लाल पटेल उपस्थित थे। उन्होंने बताया कि राज्य की जनसंख्या में अन्य पिछड़ा वर्ग तथा आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों का सर्वेक्षण कर क्वांटिफायबल डाटा एकत्रित किए जाने के उद्देश्य से इस आयोग का गठन किया गया है। यह सर्वेक्षण एवं डाटा संग्रहण का कार्य, चिप्स के तकनीकी सहयोग से संपन्न किया जाएगा। बैठक में उपस्थित सचिव बीसी साहू ने बताया कि मोबाइल ऐप को इंस्टॉल करने के बाद ऐप में आवेदक को पंजीयन कराना होगा। इसके लिए चिप्स ने सीजीक्यूडीसी नाम से मोबाइल ऐप भी तैयार किया है। सुपरवाइजर एवं उपयोगकर्ता दोनों के उपयोग हेतु वेब पोर्टल का निर्माण किया गया है। उपयोगकर्ता द्वारा आनलाईन प्रविष्ट किये गये डाटा के सत्यापन के जिम्मेदारी सुपरवाइजर की होगी। जिन उपयोकर्ताओं के पास आनलाईन पंजीयन की सुविधा नही है, वह अपना पंजीयन सुपरवाइजर से करा सकते है।
क्वांटिफायबल डेटा ऐप- यह मोबाइल ऐप आयोग के साथ-साथ आवेदकों के लिए भी काफी सुविधाजनक होगा और एक पारदर्शी व्यवस्था के साथ पिछड़ा वर्ग और आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लोगों की गणना हो सकेगी। राज्य की जनसंख्या में अन्य पिछड़े वर्गों के सर्वेक्षण के लिए क्वांटिफायबल डेटा एकत्रित करने के लिए यह ऐप बहुत ही उपयोगी सिद्ध होगा।
यह कार्य पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग, नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग तथा ऐसे समुचित माध्यम से जो क्वांटिफिएबल डाटा आयोग उचित समझे के द्वारा संग्रहित एवं सत्यापित किया जाएगा। प्रत्येक नगरी क्षेत्र के लिए कमिश्नर को नोडल अधिकारी नियुक्त किया जाएगा। राज्य में पंचायत और नगरी प्रशासन विभाग के डायरेक्टर के सुपरविजन में यह कार्य संपादित होगा। बैठक में के के तिवारी एडिशनल सीईओ जिला पंचायत दुर्ग एवं अन्य अधिकारी व कर्मचारीगण उपस्थित थे।

Related Articles

Leave a Comment