विधिक सेवा प्राधिकरण की बैठक : मास्क पहनने की अनिवार्यतः का सख्ती से पालन किये जाने निर्देशित किया गया…

by sadmin
Spread the love

दक्षिणापथ, बालोद। राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा संचालित योजनाओं के अंतर्गत तथा छत्तीसगढ़ राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण बिलासपुर द्वारा जारी स्टेट प्लॉन आफ एक्शन में दिये गये निर्देशानुसार के विनोद कुजूर, जिला न्यायाधीश व अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण बालोद के मार्गदर्शन में आपदा पीडि़तों के लिए विधिक सेवा योजना 2010 के अंतर्गत जिला आपदा प्रबंधन समिति के तहत गठित कोर ग्रुप की बैठक आयोजित की गई। बैठक कोर ग्रुप के अध्यक्ष मनोज कुमार सिंह ठाकुर, प्रथम अपर जिला न्यायाधीश की अध्यक्षता में दिनांक शनिवार को आयोजित की गई। उक्त बैठक में कोर ग्रुप के सदस्य डॉ. प्रदीप जैन, डॉ. सायबल जाना, पंकज राजपूत अधिवक्ता, श्रीमती बृज्मा जायसवाल अधिवक्ता, गैर सरकारी संगठन व एनजीओ के सदस्य संतोष कुमार एवं जिला विधिक सेवा प्राधिकरण बालोद के सचिव कु. सुमन ध्रुव उपस्थित रहे। उक्त बैठक में कोविड-19 से संबंधित वैक्सिनेशन पर जोर दिया गया। मास्क पहनने की अनिवार्यत: का सख्ती से पालन किये जाने हेतु अनुशंसा किये जाने प्रशासन को निर्देशित किया गया।
-तीसरी लहर के मद्देनजर बच्चो को लेकर जताई चिंता
वैज्ञानिकों के द्वारा कोरोना की तीसरी लहर बच्चों के प्रति अधिक प्रभाव पडऩे का अंदेशा जताया गया है। इस हेतु कमेटी द्वारा जिला प्रशासन को अनुशंसा की गई कि जिले में स्थापित शासकीय, गैरशासकीय अस्पतालों में बच्चों के लिए अलग से चिकित्सा की व्यवस्था एवं पृथक से वार्ड निर्मित किया जाये, जहां पे बच्चे सुविधाजनक स्थिति में ईलाज करा सके।

स्कूल खोले जाने से पहले प्रशासन को दिया निर्देश
आगामी 2 अगस्त को राज्य शासन द्वारा शैक्षणिक संस्थानों को खोले जाने का जो प्रस्ताव लाया गया है उस संबंध में कमेटी के द्वारा विचार किया गया और यह तय किया गया कि जिला शासन को विशेष रूप से निर्देशित किया जाता कि यदि शैक्षणिक संस्था खोले जा रहे है तो उसके पूर्व शिक्षकों को कोविड-19 प्रोटोकॉल के संबंध में प्रशिक्षण दिलाया जावे। साथ ही अभिभावकों को भी इस संबंध में जागरूक बनाने हेतु कार्यक्रम किया जावे।
बरसात में अधिक सतर्कता से कार्य करे प्रशासन
वर्तमान में बरसात के मौसम को देखते हुए बालोद जिले में आने वाले जंगली क्षेत्र में मलेरिया, डायरिया, सर्पदंश एवं आकाशीय बिजली कड़कने से घटना का प्रभाव अधिक होता है। लोगों को जागरूक बनाने के लिए शासन द्वारा जो विभिन्न योजनाएं चलाई जा रही जिसका जमीनी स्तर पर प्रत्येक व्यक्ति को लाभ हो जिसके लिए जिला प्रशासन को अधिक सतर्कता से कार्य करते हुए एवं जिला विधिक सेवा प्राधिकरण बालोद से सामंजस्य स्थापित कर कार्यवाही सुनिश्चित करे।

Related Articles